गुरुवार, 27 नवंबर 2008

बंबई आतंकवाद !!

 

बंबई में जो कुछ हुआ उसके प्रति हर भारतीय शोक संतप्त है.

आतंकवादियों से लडते समय देश की सुरक्षा के लिये जिन शहीदों नें वहां अपनी जानें कुर्बान कीं उन सब के प्रति हम अपनी आदरंजली अर्पित करते हैं!!

8 टिप्‍पणियां:

हिज(ड़ा) हाईनेस मनीषा ने कहा…

उन परिवारों को इस दुःख को सहन करने का बल मिले समस्त अर्धसत्य व आयुषवेद परिवार ईश्वर से प्रार्थना करता है।

सोना ने कहा…

आतंक का रास्ता चुन कर अपनी बात जाहिर करने वाले बच्चों को भी भगवान बुद्धि दे मेरी सहानुभूति उनके माता-पिता व परिवार के लोगों के साथ भी है।

Shastri ने कहा…

बंबई की घटनाओं पर मैं निरंतर नजर रखे हूँ. उन कायरों ने कितने परिवारों की रोशनी छीन ली है!!

उन वीर सैनिकों को मेरा सलाम जिन्होंने अपने जीवन की आहुती दे कर इन उग्रवादियों को कडा जवाब दिया.

-- शास्त्री

BrijmohanShrivastava ने कहा…

आप तक पहुँच गया -एक टिप्पणी में आपके दर्शन भी कर लिए /जरा सा दबाने पर (क्लिक करने पर )सबके खुल जाते हैं ब्लॉग /मैंने पंजे से (कर्सर पंजा बन जाता है उससे )कई जगह कई बार दबाया उसने प्रोफाइल नोट अवेलेवल कहा /खैर अब तो ठिकाना देख ही लिया है /
शहीदों की कुर्वानी के प्रति मेरी भी श्रधांजलि

रम्भा हसन ने कहा…

हम सब एक-एक बोतल खून देकर आये हैं आज ताकि घायलों के काम आ सके।

Shastri ने कहा…

रम्भा, तुम लोगों ने मिल कर यह जो कार्य किया यह मानवता का एक बहुत बडा उदाहरण है.

सस्नेह -- शास्त्री

RAJIV MAHESHWARI ने कहा…

रम्भा जी आपने जोकार्य किया है.........आप को
मेरा सलाम

रचना ने कहा…

mae bahut daer sae is blog par pahuchi hun kshma chaahtee hun

aap sab nae jo kiya wo anukarniyae haen

ishwar nae sabko kisi na kisi maksad sae dunia mae bheja haen
aayee ham sab mil kar us maksad ko pura kare


aap sabhi ko shubhkamana
ab nirantar padhugii aap sab ko
is chitr ko yahaa daal kar aapne jo saath diya haen hindi bloggers kaa wo hamaesha yaad raheygaa
dukh ki gadhhi mae hii apno ki pehchaan hotee haen

अब तक की कहानी

 

© 2009 Fresh Template. Powered by भड़ास.

आयुषवेद by डॉ.रूपेश श्रीवास्तव